Advertisements

Paramparagat Krishi Vikas Yojana हर साल ₹1000000 का वित्तीय अनुदान दिया जाएगा

हमारा देश भारत देश के किसानों पर निर्भर करता है, क्योंकि यह एक कृषि प्रधान देश है. आपको बता दें कि ज्यादातर कृषि क्षेत्र भारत के ग्रामीण इलाकों से संबंध रखता है. भारत के ग्रामीण इलाके के लोग लगभग खेती करते हैं लगभग वहां पर 98% आबादी किसानों की है दो परसेंट ही लोग ऐसे हैं जो कृषि भूमि से अलग अपना अन्य कोई बिजनेस करते हैं और अपने जीवन यापन करते हैं.

Advertisements

आपको बता दें कि केंद्र सरकार द्वारा Paramparagat Krishi Vikas Yojana शुरू की गई है, इस योजना का उद्देश्य है परंपरा से चली आ रही खेती में कुछ बदलाव किया जाए ताकि उपजाऊ क्षमता बड़ा करके होने वाले उत्पादन में वृद्धि की जा सके. ताकि इससे किसानों को अच्छा खासा लाभ हो देश का भविष्य भी ऊपर उठ सके.

ज्यादातर देखा जा रहा है कि भारत के लगभग खेतिहर इलाकों में वही पारंपरिक खेती की जा रही है जो सदियों से चली आ रही है और वही तरीके आज हम खेती करने के लिए काम में ले रहे हैं उसमें कोई भी बदलाव नहीं है यही वजह है कि आज हमारी कृषि का उपजाऊ पन कम हो गया है. और धीरे-धीरे उत्पादन क्षमता भी कम हो रही है. Paramparagat Krishi Vikas Yojana Info

Advertisements
योजनाParamparagat Krishi Vikas Yojana
  • परंपरागत कृषि विकास योजना
  • उद्देश्य: जैविक खेती को बढ़ावा
    संबंधित मंत्रालय: कृषि एवं किसान
    Paramparagat Krishi Vikas Yojana
    Advertisements

    इस योजना को चलाने के पीछे का मकसद है कृषि भूमि को आधुनिक तकनीक के माध्यम से उपजाऊ बनाना और साथ ही अधिक पैदावार पैदा करना इसमें केंद्र सरकार किसानों की मदद करेगी इस योजना की शुरुआत सन 2015 में की गई थी और यह योजना लगभग अच्छी साबित हो रही है.

    कृषि विकास योजना के तहत सरकार किसानों की मदद करेगी ताकि वे जैविक खेती कर सके, इसमें सरकार वित्तीय अनुदान भी किसानों को देगी और यह भी जिस प्रमाणन प्रणाली के आधार पर प्रदान किया जाएगा और इसी PGS प्रणाली की मदद से फसलों की ऑर्गेनिक होने की जांच भी की जाएगी.

    Advertisements

    किसानों को जैविक खेती करने के लिए सरकार वित्तीय सहायता देगी जिसमें 500 से लेकर 1000 हेक्टेयर भूमि पर 50 से लेकर 100 किसानों का Group बनाना होगा और इन किसानों को लगभग हर साल ₹1000000 का वित्तीय अनुदान दिया जाएगा और पीजीएस सर्टिफिकेट के लिए अलग से ₹500000 प्रदान किए जाएंगे, क्या है यह पूरी योजना चली विस्तार से जानते हैं.

    परंपरागत कृषि विकास योजना क्या है

    योजना के तहत केंद्र सरकार किसानों की मदद करेगी इस योजना के तहत सरकार द्वारा जैविक खेती बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है ताकि लंबे समय तक हमारी जमीन की गुणवत्ता बनी रहे और इस में होने वाली पैदावार में भी वर्दी हो, ताकि देश की आर्थिक स्थिति और ज्यादा बेहतर हो सके और हम हर साल होने फसल टारगेट और ज्यादा बढ़ सके Paramparagat Krishi Vikas Yojana में सरकार ऐसे किसानों को प्रोत्साहित करेगी जो जैविक खेती के माध्यम से अपनी कृषि भूमि को प्यार करेगा और अपनी कृषि भूमि को रसायन मुक्त बनाने में सरकार की मदद करेगा.

    परंपरागत कृषि विकास योजना के तहत किसानों को 3 गुना लाभ होने वाला है. आपको बता दें रासायनिक खेती की के अलावा यदि हम जैविक खेती पर जोर दें तो इससे हमारी इनकम भी बढ़ेगी और हमारी कृषि भूमि भी लंबे समय तक अपनी उपजाऊ क्षमता बनाए रखेगी, इसे हमारे देश के किसानों का भी भला होगा और देश का भविष्य भी उत्तम बनेगा. यही वजह है कि सरकार जैविक खेती के प्रति किसानों को प्रोत्साहित कर रही है.

    परंपरागत कृषि विकास योजना की विशेषताएं

    • परंपरागत कृषि विकास योजना देश के किसानों को जैविक खेती के लिए प्रोत्साहित करती है प्रेरित करती है.
    • इस योजना के तहत 50 से लेकर 100 किसानों का एक समूह 50 एकड़ भूमि को जैविक खेती लाइक बनाएगा और इसी तरह 5000000 एकड़ क्षेत्र को कवर करने वाले 3 वर्षों के दौरान 10,000 किसान समूह इस Paramparagat Krishi Vikas Yojana के तहत बनाए जाएंगे.
    • योजना में जितना भी खर्च होता है सारा का सारा खर्च केंद्र सरकार के द्वारा उठा उठाया जाएगा 3 वर्ष के लिए किसानों को बीज फसलों की कटाई बाजार में ले जाने के लिए परिवहन व्यवस्था आदि के लिए ₹20000 प्रति एकड़ दिए जाएंगे.

    दोस्तों आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी कैसी लगी हमें जरूर बताएं और ऐसे ही मजेदार ताजा अपडेट के लिए हमें टेलीग्राम पर फॉलो कर ले.

    Leave a Comment

    Advertisements